कोरोना संक्रमण को रोकने प्रशासन ने झोंकी ताकत लोगो को बचाने कलेक्टर रजत बंसल दिखा रहे सक्रियता प्रशासनिक व्यवस्था की लोग कर रहे सराहना

452

 

22/3/2020 धमतरी नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत समस्त सरकारी एवं गैर सरकारी बिल्डिंग, गार्डन, मंदिर, मस्जिद, चर्च ,चौक -चौराहे ,बस स्टॉप, रेलवे स्टेशन ,काम्प्लेक्स , शहर के सारे दुकान, एटीएम, पेट्रोल पंप को सेनीटाइज किया गया, 5-5 लोगों की 10 टीम बनाई गई थी और हर टीम की  एक अधिकारी द्वारा मॉनिटरिंग की जा रही थी, सेनीटाइज करने वाले सभी लोगों को मास्क ग्लव्स गम बूट रेनकोट इत्यादि सुरक्षा उपकरण दिया गया था  यहां कलेक्टर रजत बंसल की भूमिका की खास तारीफ करनी होगी वह इसलिए कि उन्होंने कोरोना से जंग लड़ने के लिए न सिर्फ पूरे प्रशासनिक अमले को एक्टिव किया बल्कि खुद भी कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। 

(राजेश रायचुरा) धमतरी। नोवेल कोरोना के संक्रमण ने कई देशों में बेहद तबाही मचाने का काम किया है, कोरोना के कुछ मामले भारत में भी सामने आए, जिससे यहां भी संक्रमण फैलाने का खतरा बढ़ गया था, जिसे भांपते हुए एक ओर शासन के द्वारा तत्परता के साथ वे सभी निर्णय लिए जिससे कि कोरोना को थामकर

रखा जा सके, वहीं जिला प्रशासन ने पूरी ताकत झोंक दी, हर वह उपाय किए जा रहे हैं जिससे कि कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। इसका अच्छा परिणाम सामने भी आ रहा है, लोग प्रशानिक कसरत को देख जागरूक हुए। धमतरी जिले के लिए यह राहत की बात है कि अब तक कोरोना पीड़ित

एक भी मरीज नहीं मिला है, न हि कोई संदिग्ध मरीज मिला कि जिससे कोरोना फैलने का खतरा रहे।जिस तरह से प्रशासन सक्रिय होकर काम कर रहा उससे आगे भी अच्छे परिणाम की उम्मीद की जा सकती है। यहां कलेक्टर रजत बंसल की भूमिका की खास तारीफ करनी होगी वह इसलिए कि उन्होंने कोरोना से जंग लड़ने के लिए न सिर्फ पूरे प्रशासनिक अमले को एक्टिव किया बल्कि खुद भी कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। नोवेल कोरोना एक ऐसा वायरस है जो छूने व सम्पर्क में आने से फैलता है, अगर जिला प्रशासन के मुखिया को खुद की चिंता होती तो अपने चेम्बर से ही आदेश देते ताकि खुद की सुरक्षा पहले हो, चाहते तो अपने टेबल पर बैठकर ही काम निपटा सकते थे, फिर उनके पास हर निर्देश का पालन करने कर्मचारियों की फौज है, उनसे काम ले

सकते है। मगर कलेक्टर रजत बंसल ने खुद को ही तवज्जो देना गवारा नहीं समझा और खुद भी करोना से जंग लड़ने उतर पड़े। इसका असर है कि पूरा प्रशासनिक अमला अलर्ट हो गया और कोरोना के हर आदेश-निर्देश का पालन बड़ी ही गंभीरता के साथ किया जा रहा है। कलेक्टर रजत बंसल कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कितने गम्भीर हैं इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि मेडिकल स्टोर में जांच करने के लिए खुद पहुंचे थे, जबकि चाहते तो सिर्फ आदेश देते और स्वास्थ्य विभाग का पूरा अमला मेडिकल की खाक छान लेता, पर उन्होंने मेडिकल स्टोर्स में खुद दबिश देकर यह दर्शा दिया कि कोरोना से लड़ने गंभीरता दिखा कर काम करना होगा, इसी के साथ विदेश से आने वाले लोगों को विशेष निगरानी में रखने के लिए बनाए गए क्वॉरेंटाइन सेंटर का भी निरीक्षण करने के लिए कलेक्टर रजत बंसल पहुंचे थे। इसके अलावा वे अपने कार्यालय में विभागीय-अधिकारियों कर्मचारियों की लगातार बैठक ले रहे, लोगों को भी जागरूक करने कोई कसर नहीं छोड़ रहे। कलेक्टर रजत बंसल के प्रयास को देखते हुए धमतरी के लोग आशान्वित हैं कि कोरोना से जंग में धमतरी सफल होगा और यहां संक्रमण को रोका जा सकेगा। हालांकि इसके लिए लोगों का भी जागरूक होना जरूरी है, वैसे एक और अच्छी बात है कि कलेक्टर के साथ एसडीएम मनीष मिश्रा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डीके तुर्रे समेत जिले के आला अधिकारी कोरोना के मामले को गंभीरता से लेकर काम कर रहे हैं। इधर लोगों का भी पूरा सहयोग मिलता दिख रहा है। शासन के निर्देश के बाद शहर से चाट-गुपचुप एवं अन्य फास्ट फूड के अस्थाई ठेले पूरी तरह से गायब हो चुके हैं। उद्यानों में ताला लटक गया है, शिक्षण संस्थाएं बंद है, कोचिंग सेंटर भी बन्द हो गए, सिनेमाघर मे सभी शो रद्द है, जिम, आंगनबाड़ी, समेत जहां भीड़- भाड़ रहती है वहां वीरानी छाई हुई है। लोग आवश्यक काम से ही घर से निकल रहे हैं, वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर जनता कर्फ्यू को समर्थन देने भी लोग सामने आ रहे। व्हाट्सएप-फेसबुक के माध्यम से अपील कर रहे कि घर से बाहर ना निकले। यह माना जा रहा कि धमतरी में जनता कर्फ्यू का व्यापक असर देखने को मिलेगा।

श्री आशीष ठिकरिया,श्री पंकज शर्मा, श्री सतीश चंद्र त्रीपाठी, राजेश पदमवार, कामता नागेंद्र, शशांक मिश्रा ,निखिल चंद्राकर, योगेश निषाद, भूपेंद्र दिली, कमलेश ठाकुर, नमिता नागवंशी, लोमस देवांगन, देवेश चंदेल, हेमंत नेताम, सीताराम श्रीवास एवं  पूरी टीम सबेरे से ही जनता के भले के पूरी तरह लगी हुई है |