कोरोना में स्कूल बंद, उड़ेना में वालेंटियर बने शिक्षक, बच्चों का गढ़ रहे भविष्य

22

धमतरी | वैश्विक महामारी कोरोना के दौर में जहां पूरे देश में स्कूल बंद हैं वहीं छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में स्कूली बच्चों की पढ़ाई को निरंतर जारी रखने के लिए नवाचार के साथ ‘पढ़ई तुंहर दुआर’ कार्यक्रम को नीति आयोग समेत देशभर के विभिन्न हिस्सों से सराहना मिल रही है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश में स्कूली बच्चों की शिक्षा के लिए ऑनलाईन पढ़ाई के लिए गत सात अप्रैल को ‘ पढ़ई तुंहर दुआर’ कार्यक्रम की शुरुआत की थी। ग्राम पंचायत उड़ेना में प्रधान पाठक मनोज साहू के मार्गदर्शन में 18 वालेंटियर युवक, युवतियां पहली से आठवीं तक के बच्चों को पढ़ा रहे है | ग्रामवासियों ,पंचायत प्रतिनिधियों, पालको और युवा वर्ग के सहयोग से गांव के अलग-अलग भवन के सभी कक्षायें सुचारू रूप से 2 घंटे लग रही है| सोमवार से शनिवार तक गांव के युवा और युवतियां बच्चों को पढ़ा रही है | रविवार को प्रधानपाठक मनोज साहू द्वारा सभी वॉलेंटियर्स को प्रशिक्षित कर रहे है कि बच्चों को किस तरह पढाया जाए जिससे बच्चे रुचि ले | शिक्षण के समय आ  रही समस्याओं का समाधान करने का प्रयास किया जा रहा है|

tushar