किराना सामान के दाम छू रहे आसमान, गृहणियों ने कहा किचन का बजट गड़बड़ा गया

366

धमतरी | कोरोना काल में किराना सामान के दामों में हुई बढ़ोतरी ने आम उपभोक्ताओ की कमर तोड़ दी है। मंहगाई का सबसे ज्यादा प्रभाव मध्यम व निम्न वर्ग के परिवारों पर पड़ा है। व्यापारियों का कहना है कि दीपावली पर्व तक सामानों के दामों में तेजी बनी रहेगी। लॉकडाउन और मानसून की बेरुखी के कारण बाजार में मंहगाई बड़ी है। बारिश से भी दालों का उत्पादन प्रभावित हुआ है।

कोरोना काल के इस भीषण दौर में सब्जियों के साथ ही किराना सामान के दाम में इजाफा हुआ है। आलू , प्याज के साथ दाल की कीमत भी आसमान छू रही है ।आलू 40 रुपए  किलो, प्याज  80, शक्कर 50, अरहर दाल 120 रुपए किलो बिक रही है। गोकुलपुर वार्ड की गृहणी मनीषा, रूपा, किरण ने बताया कि किराना सामान के दामों में हुई बढ़ोतरी से उनके किचन का बजट गड़बड़ा गया है। वह निम्न वर्ग परिवार से ताल्लुक रखती है। ऐसे में परिवार चलाना मुश्किल हो रहा है |महंगाई पर नियंत्रण जरुरी हो गया है। मंहगाई से सबसे ज्यादा प्रभावित निम्न व मध्यम वर्ग के परिवार हुए है । इसी तरह बांसपारा वार्ड की पूजा, कविता ने बताया कि किराना सामान के दाम में हुई बढ़ोतरी से उन्हें आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ा है। किराना सामान के दाम में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है ।आलू, प्याज का उपयोग रोज सब्जियों में होता है लेकिन दाम बढ़ने से सब्जियों में प्याज का तड़का नहीं लगा पा रही है। इधर व्यापारियों का कहना है कि किराना  सामान के दाम में तेजी दीपावली तक बनी रहेगी। लॉक डाउन का भी व्यापक असर पड़ा है। बारिश से दाल का उत्पादन प्रभावित हुआ है।