भारतीय संस्कृति में गुरु शिष्य का संबंध अद्भुत  

466

धमतरी | पूर्व राष्ट्रपति डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म दिवस को शिक्षक दिवस के रूप में जिला कांग्रेस कमेटी धमतरी द्वारा रायपुर रोड बठेना चौक में मनाया गया| कांग्रेस जनों द्वारा सर्वप्रथम सर्वपल्ली डॉ राधाकृष्णन के छायाचित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित किया गया|  उनके व्यक्तित्व कृतित्व एवं जीवनी पर प्रकाश डालते हुए प्रभारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि प्रतिवर्ष 5 सितंबर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। |भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्म-दिवस के अवसर पर शिक्षकों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए पूरे देश में शिक्षक दिवस मनाया जाता है। ‘गुरु’ का हर किसी के जीवन में बहुत महत्व होता है। समाज में भी उनका अपना एक विशिष्ट स्थान होता है। सर्वपल्ली राधाकृष्णन शिक्षा में बहुत विश्वास रखते थे।

वे एक महान दार्शनिक और शिक्षक थे। उन्हें अध्यापन से गहरा प्रेम था। एक आदर्श शिक्षक के सभी गुण उनमें विद्यमान थे। जिलाध्यक्ष शरद लोहाना ने कहा कि गुरु-शिष्य परंपरा भारत की संस्कृति का एक अहम और पवित्र हिस्सा है। जीवन में माता-पिता का स्थान कभी कोई नहीं ले सकता, क्योंकि वे ही हमें इस खूबसूरत दुनिया में लाते हैं। कहा जाता है कि जीवन के सबसे पहले गुरु हमारे माता-पिता होते हैं। भारत में प्राचीन समय से ही गुरु व शिक्षक परंपरा चली आ रही है, लेकिन जीने का असली सलीका हमें शिक्षक ही सिखाते हैं। सही मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करते हैं। इस दौरान जिलाध्यक्ष शरद लोहाना, पूर्व विधायक हर्षद मेहता, पूर्व जिला अध्यक्ष मोहन लालवानी, महापौर विजय देवांगन, जिला पंचायत उपाध्यक्ष  नीशु  चन्द्राकर, ब्लॉक अध्यक्ष अमरदीप साहू, प्रदेश प्रवक्ता कृष्ण मरकाम, सरपंच संघ अध्यक्ष राजेश चंद्राकर, एम.ए. फहीम, विजय प्रकाश जैन, हरमिंदर छाबड़ा, नूर मोहम्मद मेमन, देवेन्द्र अजमानी, असरफ रोकड़िया, सलीम रोकड़िया, गौरीशंकर पांडेय, दयाराम साहू, ममता शर्मा, नीलू पवार, सविता कंवर, परमानंद आडिल, तनवीर कुरैशी, सोमेश मेश्राम, राजेश ठाकुर, ललित सोनी, तारिक रज़ा कादरी, हेमंत सिन्हा, तोमन कंवर, आकाश गोलछा, अम्बर चन्द्राकर, भागी निषाद, शिवम राय, आशीष बंगानी, संकेत गुप्ता, भूपेंद्र साहू, तुलाराम साहू, श्याम लाल नागरची, डिगेश्वर देवांगन, श्रीकांत तिवारी, राजेश त्रिपाठी, आकश यादव सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता उपस्थित रहे|