कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष द्वारा मांगो एवं विषयों पर लिखे पत्र का जवाब मुख्यमंत्री कार्यालय से मिला

62

धमतरी | शासन द्वारा मान्यता प्राप्त कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष दीपक शर्मा ने माननीय मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन, रायपुर को, प्रदेश शासन के कर्मचारियों/अधिकारियों को 3 नवंबर को सातवें वेतनमान की एरियर्स और जनवरी 2019 से राज्य शासन के समक्ष लंबित राज्य कर्मचारियों के समस्त संवर्गो के कम से कम 5% लंबित महंगाई भत्ता का आदेश त्योहार पूर्व शीघ्र जारी करने हेतु प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को कर्मचारी संघ की ओर से अनुरोध पत्र प्रेषित किया था,।

कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष दीपक शर्मा ने यथाशीघ्र आदेश जारी करने हेतु उल्लेखित कारणो में यह बताया है कि जमीनी स्तर पर महंगाई सूचकांक में वृद्धि हो चुकी है जिससे राज्य शासन के कर्मचारियों को इस महंगाई के दौर में और त्योहारी सीजन में आर्थिक भार उठाना पड़ा है, आगामी भविष्य में यदि महंगाई भत्ता और एरियर्स संबंधी आदेश जारी हो जाते हैं तो कर्मचारियों को महंगाई सूचकांक वृद्धि से राहत मिलेगी।

मुख्यमंत्री को प्रेषित पत्र के परिपेक्ष्य में मुख्यमंत्री के दिशा निर्देशन में मुख्यमंत्री सचिवालय, मंत्रालय महानदी भवन नया रायपुर के अवर वित्त सचिव प्रेम सिंह घरेंद्र ने पत्र की प्रगति से अवगत कराते हुए इस बिंदु पर निराकरण की वस्तुस्थिति अवगत कराने हेतु तथा आगामी आवश्यक कार्यवाही से जिला अध्यक्ष को अवगत कराने हुए निराकरण की वस्तुस्थिति को ऑनलाइन वेब पोर्टल पर दर्ज करने निर्देशित किया गया है।

कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष शर्मा ने बतायाकि वर्तमान समय में प्रदेश शासन के कर्मचारी अधिकारी महंगाई भत्ते के मामले में केंद्र शासन से 9% पीछे चल रहे हैं, महंगाई भत्ते के मामले पर केंद्र शासन और राज्य कर्मचारी कर्मचारियों के बीच असमानता के कारण राज्य शासन के कर्मचारियों ने काफी असंतोष व्याप्त है। छत्तीसगढ़ कर्मचारी संघ के प्रांत अध्यक्ष जीपी बुधौलिया, जिला अध्यक्ष दीपक शर्मा ,उप प्रांत अध्यक्ष, प्रताप पारख, प्रमुख महासचिव, एवं कार्यवाहक प्रांत अध्यक्ष आरपी द्विवेदी, प्रांतीय कोषाध्यक्ष अशोक नवरे महामंत्री अशोक पांडे, श्रीधर नायडू सहित कर्मचारी संघ के सैकड़ों सदस्यों ने महंगाई भत्ता और सातवें वेतनमान की एरियर्स , वेतन वृद्धि बहाल करने, हेतु, मांगों को पूर्ण करने हेतु पुनः मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया है ।

tushar