अब बैंकिंग सेवा ग्रामीणों को बिना बैंक आए उनके ही गांव में प्राप्त हो सकेगी, बैंक सखियां देंगी पूरी जानकारी

143

धमतरी | बैंक रहित ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को बैकिंग सेवा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से जनपद से बीसी सखी का चयन किया जाता है, जिससे नकद जमा, आहरण तथा अन्य बैंकिंग सेवा ग्रामीणों को बिना बैंक आए उनके ही गांव में प्राप्त हो सके। निदेशक, बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान (आरसेटी) ने बताया कि ’मिशन वन जीपी वन बीसी सखी’ का प्रशिक्षण आरसेटी परिसर में आयोजित किया गया। सात दिवसीय इस प्रशिक्षण के दौरान बैंक सखी को सामान्य बैंकिंग, वित्तीय समावेशन, बीसीए की भूमिका, तकनीकी और व्यवहारिक कौशल तथा व्यवहारगत पहलू के बारे में बताया गया। साथ ही बैंक योजना से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी भी प्रशिक्षण में बैंक सखी को दी गई। प्रशिक्षण में कुल 23 हितग्राही शामिल हुए। इनमें नगरी जनपद से 8, धमतरी से 6, मगरलोड से 5 और कुरूद जनपद से 4 हितग्राही शामिल हैं।
प्रशिक्षण के अंतिम दिन सभी बैंक सखियां आनलाईन परीक्षा (इंडियन इंस्टिट्यूट बैंकिंग एंड फाइनेंस) में शामिल हुए और अच्छे अंकों से उत्तीर्ण भी हुईं। वैसे तो 100 अंकों के प्राप्तांक वाले इस परीक्षा में कम से कम 40 अंक अर्जित करने होते हैं, किन्तु सभी ने 60 से अधिक अंक अर्जित किए, वहीं तीन हितग्राहियों ने 80 से अधिक अंक प्राप्त किए। प्रशिक्षण के समापन अवसर पर उपस्थित बैंक आफ बड़ौदा धमतरी के उप क्षेत्रीय प्रबंधक अरूण खण्डेलवाल और अग्रणी जिला प्रबंधक  प्रबीर कुमार राॅय ने सभी हितग्राहियों को स्वप्रेरित होकर ग्रामीणों को अच्छी सेवा एवं समय की पाबंद होकर कार्य करने का मार्गदर्शन दिया। निदेशक, बड़ौदा आरसेटी अमित कुमार माथुर ने हितग्राहियों को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए अच्छी गुणवत्ता से सेवा प्रदान करने पर बल दिया।